Followers

Saturday, 23 November 2013

हम एक नयी दुनियाँ बसायेंगे .........!!!


हम एक नयी दुनियाँ बसायेंगे 
हम एक नयी आसमां बनायेंगे
जहां प्रेम के बीज बोयेंगे  
जहां प्यार की बारिश होगी 
जहाँ न होगी कोई चिरहरण 
न होगी पट्टी बंधी कोई गंधारी ……!!

इस प्यार भरी दुनियां में 
सपनों के फूल खिलेंगे 
रिश्तों की खुशबू बिखरेगी 
हर सीता बेटी महफूज यहां रहेगी
कोई दामिनी अब नहीं मरेगी 
सब मिलजुल कर अब रहेंगे 
नयी इतिहास हम फिर रचेंगे …!!

न कोई चक्रव्यूह रचेगा 
न कोई अभिमन्यू कभी मरेगा 
न अर्जुन अपनों से युद्ध करेगा 
न कोई कर्ण भाई के हाथों मरेगा 
हार जीत कि इस पावन भूमि में 
न विधवंस का पताका लहरायेगा……!! 

इतिहास कि नयी इबारत 
हम मिल कर फिर लिखेंगे 
इस प्यार भरी प्यारी दुनियां में 
हर ओर प्यार बिखरेगा
हर दिन होली और
हर दिन दीवाली होगी   ……!!

                                                                 Ranjana Verma 

Thursday, 21 November 2013

सचिन तुम एक महान बल्लेबाज...... !!!

                                                                                               
       सचिन तुम एक महान बल्लेबाज !!
      तुम शतकों के सरताज !!
      तुम हमारी शान 
      क्रिकेट की पहचान 
      खेल का सम्मान !!

      भारत माँ के लाल !!
      खेल का मिसाल !!

      तुम एक आस्था !!
      तुम एक विश्वास !!
      क्रिकेट की आगाज !!

      सचिन तुम हो महान !!
      तुम से मिली क्रिकेट को पहचान 
      तुम हो तो क्रिकेट 
      तुम हो तो जीत 

      क्रिकेट के तुम नायाब हीरा !!
      खेल जगत के तुम महान वीरा!! 

      सचिन सिर्फ एक नाम नहीं
      सचिन एक पहचान नहीं 
      सचिन एक व्यक्ति नहीं 
      सचिन एक इतिहास नहीं 
      सचिन है करोड़ों आत्मा की आवाज !!

      हर दिल से निकले ये दुआ 
      खुश रहो तुम सदा 
      तुम भारत के नक्षत्र तारे 
      रहोगे हमेशा चमकते सितारे 
      भारत रहेगा हर पल ऋणी तुम्हारा..... !! 

     ( हम सब के तरफ से सचिन को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें )

                                                                Ranjana verma 
                                                              

Friday, 15 November 2013

यह देश है मेरा यह देश है मेरा......... !!

                                                                                                                                         
                             भारतवर्ष की पवित्र भूमि
                             चन्दन टीका जैसा !!
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा !!

                             जन्मे जहाँ थे श्री राम और सीता
                             श्री कृष्ण ने सुनायी अनमोल ज्ञान गीता
                             गंगा युमना सी पवित्र नदियाँ
                             मिली सौगात में हो जहाँ
                             रामायण महाभारत सुखसागर जैसे
                             अनमोल ग्रन्थ हों हर घर में जहाँ
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा !!

                             संस्कार परम्परा की परिभाषा
                             घर घर में बतायी जाती है जहाँ
                             अतिथि की सेवा करना
                             पुण्य माना जाता है जहाँ
                             माँ बहनों की इज्ज़त को
                             धरोहर समझा जाता है जहाँ
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा !!

                             विवेकानंद ने पूरे विश्व को
                             धर्म का मतलब समझाया जहाँ
                             अहिंसा जहाँ का परम धर्म  हो
                             सत्यवादी हो हरिश्चन्द्र जैसा
                             सुभाष तिलक आजाद भगत
                             वीर नायक हों पैदा जहाँ
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा!!

                            मंदिर मस्जिद गिरजाघरों की
                            हिफाजत हो जान से ज्यादा जहाँ
                            मानवता की शिक्षा बचपन से
                            घुट्टी में पिलायी जाती हो जहाँ
                            यह देश है मेरा यह देश है मेरा!!
                            भारतवर्ष की पवित्र भूमि
                            चन्दन टीका जैसा !!
                                                                             
                                                                                                                                                                                                                                                                                     
                                                                                                    Ranjana Verma  



                            

Thursday, 14 November 2013

बिन बारिश के मैं भीग रही थी……

                                                                                                             


      बिन बारिश के मैं भीग रही थी........
      बिन शोले के मैं जल रही थी
      अनजानी दिशाओं में बढ़ रही थी
      मेरी सांसे कुछ बहक रही थी 
      पास कोई खुशबू सी महक रही थी
      मेरा कंगना कुछ खनक रहा था
      मेरी बिंदिया चमक रही थी
      मेरे लब कुछ बोल रहे थे
      मेरी आँखे कुछ खोज रही थी
      मेरा आंचल कोई खींच रहा था
      पीछे पलटी तो तुम खड़े थे ......…!!  

 


                                                Ranjana verma 

Sunday, 3 November 2013

दिए की ये कतारे..........

                                              




      दिए की ये कतारें 
      कहती है तुमसे ये बहारें ......… 
      हो उज्जवल तेरा जीवन
      प्रतिदिन सुचिकर और गौरवशाली ....!! 
      दिए से चमचमाते ये फिजायें
      नयी रोशनी और नयी दिशायें 
      कहती दिए की ये कतारें......…  
      दूर करे हम सब अपने
      मन की अमावस्या…!!
      टिमटिमाती दिए की रोशनी
      अंदर कि नयी शक्ति है हमारे 
      लौ में जलती दिए की कतारें……… 
      कहती है जमीं से नभ तक हो प्रकाश
      देश में चारों ओर जल रहा हो लौ-विश्वास .......!!  
      प्रज्ज्वलित दीप जलते रहे
      जीवन पथ पर हम बढ़ते रहें……… 
      दीया और बाती जलते रहे
      हर जीवन जगमगाते  रहे………!! 
      दिए की झिलमिलाती रोशनी
      हर दिए से निकलती रोशनी
      नये संचार ऊर्जा भर्ती रोशनी
      दे रही मंगलकामना तुम्हें......…
      ज्ञान पुंज और प्रकाश पुंज से
      तेरा मन कमल खिलते रहे
      जीवन में हर पल तेरे
      दिए की रोशनी बिखरते रहे.….…    !!

                                                             Ranjana Verma