Followers

Wednesday, 1 February 2017

मां करती हूँ तुम्हें नमन !!


                   
                                                     


          विद्या की देवी
          देना तुम मुझको ज्ञान
           मां करती हूँ तुम्हें नमन !!
          सच्चाई प्रेम प्यार करुणा से
          भर देना मेरा मन
          दुःख दर्द ईर्ष्या द्वेष और प्रपंच का
          कर सकूं मैं अंत
          अपनों से हुई दूरी को रिश्तों में आयी मज़बूरी को
          बांध सकूँ मैं  मिठास के मजबूत बंधन
         भर देना प्रकाश तुम मेरे अंदर  में जिससे मिट
         सके मेरा सब अज्ञान
         ये जमीं हवा पानी सरसों  के फूलों  की खुशबू से
         भीगता हर पल हमारा तन
         गर आये आज कोई गांठ दिल में
         तो खोल सकूं हर राज इस बसंत
         मां करती हूँ तुम्हे नमन !!



                                                                    Ranjana  Verma