Followers

Thursday, 28 August 2014

मैं तो रंग गई पिया के रंग !!!

                                                     


                                                               


                              बूँद बूँद बारिश के गिरते जितने
                              तेरे यादों में मेरी आंखों से अश्रु बहते उतने
                                                       
                              इन बूदों को अपनी आंखों में भर लूँ
                              तेरे सपनों में जरा खो लूँ                            
                              बूँद बूँद !!
                              जरा ठहर ठहर
                              पिया आज आए घर
                              देख लूँ पहले नजर भर
                                                                                       
                              आज ख़ुशी से नाच रहा
                              मेरा मन
                              मिलकर वन मयूर के संग
                              सावन के इस मौसम में
                              मैं तो भीग गई पिया के संग

                              बूंदों से तन मेरा रंग दे
                              मन मेरा रंग दे
                              रंग दे दिन और रात
                              तेरे प्यार के इस मौसम में
                              मैं तो रंग गई पिया के रंग !!!
                                                       


                                Ranjana  verma



25 comments:

  1. बहुत सुंदर एवं बारिश की बूंदों जैसी मनभावन रचना.
    नई पोस्ट : कि मैं झूठ बोलिया

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (29.08.2014) को "सामाजिक परिवर्तन" (चर्चा अंक-1720)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत हार्दिक धन्यवाद !!

      Delete
  3. प्रेम के रंग में भीगी बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्यारभरा अहसास। ।
    प्यार की प्यारी फुहार

    ReplyDelete
  5. बेहद खूबसूरत भाव, बारिश की बूंदे मन की भिंगो गयी ...गणेश चतुर्थी की अग्रिम शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete
  6. बदरंग सामजिक स्थिति में रंगने के लिए बस पिया का ही सहारा रह गया है. सुन्दर प्रेममय रचना.

    ReplyDelete

  7. बहुत सुन्दर और मन को छूती-- सुन्दर रचना ---
    सादर ---

    आग्रह है --
    भीतर ही भीतर -------

    ReplyDelete
  8. प्रेम की मीठी फुहार जब रंग जाती है ... महकता है मन .... रंगता है नए रंग में ...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर और चहकती-महकती प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप हमारे ब्लॉग में आये और हमारी छोटी सी कोशिश को सराहा इसके लिए आपको बहुत बहुत हार्दिक धन्यवाद और शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं....!!

      Delete
  10. बहुत प्यारी रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  11. भाव प्रवण रचना जो दिल को छू गई। मेरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है।सुप्रभात।

    ReplyDelete
  12. बेहद खूबसूरत रचना प्रस्‍तुत करने के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  13. अति भावपूर्ण सुन्दर रचना। बधाई। शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. अति भावपूर्ण सुन्दर रचना। बधाई। शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर वर्षा के बूंदों जैसी मनभावन।

    ReplyDelete
  16. आपकी यह उत्कृष्ट रचना वाकई बारिश कि बूंदों की तरह मन रूपी हिंदी साहित्य को भिगो-सी रही है......आपकी इस रचना के लिए आपको बधाई.....ऐसी ही रचनाओं को आप शब्दनगरी में प्रकाशित कर, उसके पाठकों को भी प्रफुल्लित होने का मौका प्रदान करें......

    ReplyDelete