Followers

Tuesday, 31 December 2013

आपको नए साल की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ....... !!!

                         



                                                                                         





    बहुत बहुत मुबारक नया साल आपको !
    बहुत बहुत मुबारक आज का दिन आपको !!

    हर दिन हो आपका खुशियों से भरा !
    हर रात हो आपका अरमानों से सजा !!

    उज्जवल भविष्य हो हर वर्ष आपका !
    मिले आपको यहाँ सारा  जहाँ !!

    हर पथ हो आपका फूलों से भरा !
    हर मंजिल हो चाँद तारों से सजा !!

    मिलते रहे यूँ ही आपको
    सफलताओं  के शिखर सदा .………!!!

                                     
                                                                         Ranjana Verma





             

Saturday, 23 November 2013

हम एक नयी दुनियाँ बसायेंगे .........!!!


हम एक नयी दुनियाँ बसायेंगे 
हम एक नयी आसमां बनायेंगे
जहां प्रेम के बीज बोयेंगे  
जहां प्यार की बारिश होगी 
जहाँ न होगी कोई चिरहरण 
न होगी पट्टी बंधी कोई गंधारी ……!!

इस प्यार भरी दुनियां में 
सपनों के फूल खिलेंगे 
रिश्तों की खुशबू बिखरेगी 
हर सीता बेटी महफूज यहां रहेगी
कोई दामिनी अब नहीं मरेगी 
सब मिलजुल कर अब रहेंगे 
नयी इतिहास हम फिर रचेंगे …!!

न कोई चक्रव्यूह रचेगा 
न कोई अभिमन्यू कभी मरेगा 
न अर्जुन अपनों से युद्ध करेगा 
न कोई कर्ण भाई के हाथों मरेगा 
हार जीत कि इस पावन भूमि में 
न विधवंस का पताका लहरायेगा……!! 

इतिहास कि नयी इबारत 
हम मिल कर फिर लिखेंगे 
इस प्यार भरी प्यारी दुनियां में 
हर ओर प्यार बिखरेगा
हर दिन होली और
हर दिन दीवाली होगी   ……!!

                                                                 Ranjana Verma 

Thursday, 21 November 2013

सचिन तुम एक महान बल्लेबाज...... !!!

                                                                                               
       सचिन तुम एक महान बल्लेबाज !!
      तुम शतकों के सरताज !!
      तुम हमारी शान 
      क्रिकेट की पहचान 
      खेल का सम्मान !!

      भारत माँ के लाल !!
      खेल का मिसाल !!

      तुम एक आस्था !!
      तुम एक विश्वास !!
      क्रिकेट की आगाज !!

      सचिन तुम हो महान !!
      तुम से मिली क्रिकेट को पहचान 
      तुम हो तो क्रिकेट 
      तुम हो तो जीत 

      क्रिकेट के तुम नायाब हीरा !!
      खेल जगत के तुम महान वीरा!! 

      सचिन सिर्फ एक नाम नहीं
      सचिन एक पहचान नहीं 
      सचिन एक व्यक्ति नहीं 
      सचिन एक इतिहास नहीं 
      सचिन है करोड़ों आत्मा की आवाज !!

      हर दिल से निकले ये दुआ 
      खुश रहो तुम सदा 
      तुम भारत के नक्षत्र तारे 
      रहोगे हमेशा चमकते सितारे 
      भारत रहेगा हर पल ऋणी तुम्हारा..... !! 

     ( हम सब के तरफ से सचिन को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें )

                                                                Ranjana verma 
                                                              

Friday, 15 November 2013

यह देश है मेरा यह देश है मेरा......... !!

                                                                                                                                         
                             भारतवर्ष की पवित्र भूमि
                             चन्दन टीका जैसा !!
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा !!

                             जन्मे जहाँ थे श्री राम और सीता
                             श्री कृष्ण ने सुनायी अनमोल ज्ञान गीता
                             गंगा युमना सी पवित्र नदियाँ
                             मिली सौगात में हो जहाँ
                             रामायण महाभारत सुखसागर जैसे
                             अनमोल ग्रन्थ हों हर घर में जहाँ
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा !!

                             संस्कार परम्परा की परिभाषा
                             घर घर में बतायी जाती है जहाँ
                             अतिथि की सेवा करना
                             पुण्य माना जाता है जहाँ
                             माँ बहनों की इज्ज़त को
                             धरोहर समझा जाता है जहाँ
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा !!

                             विवेकानंद ने पूरे विश्व को
                             धर्म का मतलब समझाया जहाँ
                             अहिंसा जहाँ का परम धर्म  हो
                             सत्यवादी हो हरिश्चन्द्र जैसा
                             सुभाष तिलक आजाद भगत
                             वीर नायक हों पैदा जहाँ
                             यह देश है मेरा यह देश है मेरा!!

                            मंदिर मस्जिद गिरजाघरों की
                            हिफाजत हो जान से ज्यादा जहाँ
                            मानवता की शिक्षा बचपन से
                            घुट्टी में पिलायी जाती हो जहाँ
                            यह देश है मेरा यह देश है मेरा!!
                            भारतवर्ष की पवित्र भूमि
                            चन्दन टीका जैसा !!
                                                                             
                                                                                                                                                                                                                                                                                     
                                                                                                    Ranjana Verma  



                            

Thursday, 14 November 2013

बिन बारिश के मैं भीग रही थी……

                                                                                                             


      बिन बारिश के मैं भीग रही थी........
      बिन शोले के मैं जल रही थी
      अनजानी दिशाओं में बढ़ रही थी
      मेरी सांसे कुछ बहक रही थी 
      पास कोई खुशबू सी महक रही थी
      मेरा कंगना कुछ खनक रहा था
      मेरी बिंदिया चमक रही थी
      मेरे लब कुछ बोल रहे थे
      मेरी आँखे कुछ खोज रही थी
      मेरा आंचल कोई खींच रहा था
      पीछे पलटी तो तुम खड़े थे ......…!!  

 


                                                Ranjana verma 

Sunday, 3 November 2013

दिए की ये कतारे..........

                                              




      दिए की ये कतारें 
      कहती है तुमसे ये बहारें ......… 
      हो उज्जवल तेरा जीवन
      प्रतिदिन सुचिकर और गौरवशाली ....!! 
      दिए से चमचमाते ये फिजायें
      नयी रोशनी और नयी दिशायें 
      कहती दिए की ये कतारें......…  
      दूर करे हम सब अपने
      मन की अमावस्या…!!
      टिमटिमाती दिए की रोशनी
      अंदर कि नयी शक्ति है हमारे 
      लौ में जलती दिए की कतारें……… 
      कहती है जमीं से नभ तक हो प्रकाश
      देश में चारों ओर जल रहा हो लौ-विश्वास .......!!  
      प्रज्ज्वलित दीप जलते रहे
      जीवन पथ पर हम बढ़ते रहें……… 
      दीया और बाती जलते रहे
      हर जीवन जगमगाते  रहे………!! 
      दिए की झिलमिलाती रोशनी
      हर दिए से निकलती रोशनी
      नये संचार ऊर्जा भर्ती रोशनी
      दे रही मंगलकामना तुम्हें......…
      ज्ञान पुंज और प्रकाश पुंज से
      तेरा मन कमल खिलते रहे
      जीवन में हर पल तेरे
      दिए की रोशनी बिखरते रहे.….…    !!

                                                             Ranjana Verma 

Thursday, 24 October 2013

                                                                                                       
            चांद के इंतजार में
          खड़ी है चांदनी
          थाल सजा कर
          दीप जलाकर
          मांग रही एक मांग
          लंबी आयु हो सुहाग की 
          जिये हजारों साल !!

          साथ रहें जन्मों तक
          प्यार रहें सदियों तक
          जगमगाता रहे सिंदूर मेरा
          खनकता रहे कंगना मेरा
          बजती रहे सांसों की सितार
          मिलता रहे साजन का प्यार !!
          



                                                                                                Ranjana Verma 

Saturday, 5 October 2013

बेपनाह मुहब्बत ...............!!!


                                                                     



  करती हूँ तुमसे मैं
  बेपनाह मुहब्बत ...............!!
  तेरे बिना जीना
  मुझे मंजूर नहीं
  प्यार के बिना नहीं जीना मुझे ......... !!
  प्यार के बिना जीना कोई जीना है
  कह दी खुदा  से--
  खुदा को जिस दिन गवारा नहीं
  मेरा और मेरे प्यार का साथ
  तो उस दिन.……
  अलविदा मेरी जिन्दगी  .................!!
  ओ दफ़न करने वाले .................
  मुझे उसके पास पहुंचा देना
  जिसकी तस्वीर मेरी निगाहों में होगी ................!!



                                                                              Ranjana Verma                                                                                                 
              

Sunday, 15 September 2013

हिंदुस्तान की हिंदी भाषा संसार में सदा गूंजता रहे .…….!!

                                                                                                                             
         हिन्ददेश की  बोली हिंदी 
        हर जन को यह प्यारा है.…….!! 
      
        यह माँ के माथे का टीका 
        हम सब की यह शान है  .…….!! 
    
        राष्ट्रभाषा हिंदी है हमारी 
        राष्ट्रीयता की पहचान है.…….!!  

        हिंदी है अस्मिता हमारी   
        हिंदी हमारा अभिमान है .…….!!  

        भारत की आवाज है ये  
        अवाम की आगाज है ये  .…….!!  

        हिंदी है संस्कृति की धरोहर
        गौरव है यह इतिहास का .…….!!   

        बढ़ रहा है साम्राज्य हिंदी का 
        बढ़ रहा है मान हिंदुस्तान का….!!  

        गर्वित हो हम हिंदी बोलते 
        विश्व में हम छा रहे    .…….!!  
  
        पूर्वजों ने सौपीं  जो हिंदी 
        हम मान उसका बढ़ा रहे  .…….!!  

        हिंदी की शब्दों की धारा 
        कल कल कर बहता रहे   .…….!!  

        हिंदुस्तान की हिंदी भाषा      
        संसार में सदा गूंजता रहे .…….!!    

    
                                                                Ranjana Verma 

Friday, 6 September 2013

ये दुनियाँ ऐसी क्यों है ??

                                                                                                                               
                                                                                                                               
                   ये दुनियाँ  ऐसी क्यों है 
                 जात -पात का वैर यहाँ पर 
                 छोटे बड़े का भेद यहाँ पर 
                 मानवता को क्यों कर रहे दागदार यहाँ पर ?
               
                ये दुनियाँ ऐसी क्यों है 
                मां बहन बेटियो की अस्मत 
                क्यों करते हैं तार -तार यहाँ पर
                दहेज़ भूर्ण हत्या बलात्कार 
                इंसानियत को क्यों कर रहे शर्मसार यहाँ पर ?

                ये दुनियाँ ऐसी क्यों है 
                भ्रष्टाचार से ग्रस्त है जनता 
                मांग रही है मुक्तिबोध यहाँ  पर 
                हर ओर हो रही लुट यहाँ पर
                मर्यादा क्यों हो रही रोज खंडित यहाँ पर  ?

                ये दुनियाँ ऐसी क्यों है 
                बम धमाके आत्मघाती से 
                हरक्षण दहलता है देश हमारा  
                भूख बेरोजगारी गरीबी से 
                हो रही जनता त्रस्त देश में 
                ईमानदारी को क्यों कर रहे हर क्षण पानी यहाँ पर ?                                        

                                                                                                         


                                                                     Ranjana Verma 


Tuesday, 27 August 2013

मैं तो हो गई बावरिया ..................!!.

                                                                                                                                                            
                                     मैं तो हो गई बावरिया ...................
                              हरि को ढूंढने मैं चली
                              छोड़कर अपना घरबार
                              कहाँ मिलेंगे मेरे हरि
                              कहाँ मिलेंगे गिरधर गोपाल
                              घर में ढूंढी-----
                              बाहर ढूंढी------
                              ढूंढी मंदिर और मस्जिद में
                              गिरजाघर में जाकर ढूंढी
                              मैं तो हो गई बावरिया ...................
               
                              प्रभु अपना पता न देते हो
                              जन्मों तक मुझे भटकाते हो
                              चौरासी जन्मों तक भटकी आत्मा
                              पर तेरी थाह न पाई मैंने 
                                           
                              हर तीर्थों में तुझे ही ढूंढी
                              ढूंढी काशी और काबा में
                              विन्ध्याचल में तुझे ही ढूंढी
                              ढूंढी पहाड़ों और कंदराओ में
                              ढूंढ़ते ढूंढ़ते गिर गई मैं
                              मैं तो हो गई चेतनाशून्य
                              शून्य में लगा मेरा ध्यान
                              तब हुआ मेरा  --------
                              सृष्टि से साक्षात्कार 
                                                
                              तब मैंने जाना------
                              मेरे अंदर ही हरि बसे हैं
                              मुझमें ही गिरधर गोपाल
                              मैं बाहर क्यों बावरिया
                              मेरे अंदर सबके अंदर
                              मंदिर और मस्जिद में
                              जिस में चाहो------
                              जिस रूप में चाहो------
                              हाथ जोड़कर कर लो दर्शन
                              अपने अंदर मुड़कर कर
                              लो आत्मदर्शन...................
     
                              वे निराकार निर्गुण हैं
                              ब्रह्मलीन हो जाओ
                              हरि कहते हैं-----
                              कर्म क्षेत्र ही जीवन है
                              जीवनकर्म ही ईश्वरत्व है
                              पवित्र मन से हर काम करो
                              निःस्वार्थ सेवा में-----
                              कुछ समय योगदान करो
                              यही है हरि पाने का मार्ग...................
                              यही है मुक्ति का भी मार्ग ...................

   
                (मेरी ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनायें )   


                                                                            Ranjana Verma
                                                                                                                                                                                                                                                                                                          

Monday, 19 August 2013

राखी का धागा भैया ..................!!

                                                                                                                                                           
                            राखी का धागा भैया …….! 
                        बांध तेरी कलाई ……. !!
                        मैं तेरी बहना  …….
                        लेती तेरी हर बलाई   ……. !! 

                       तू खुश रहे स्वस्थ रहे  
                       तू जीये  हजारों साल  ……. !!
                       मेरी यह स्नेहभरी धागा 
                       तेरी करे रक्षा हर हाल  ……. !!

                       सफलता तेरी कदम चूमें 
                       उन्नति की तू सौपान चढ़े  ……. !!
                       खुशियां हो तेरी राहों में 
                       हर राहों में तू आगे ही बढे  ……. !!

                       बचपन का प्यार हमारा 
                       जन्म जन्म का यह नाता  ……. !!
                       अटूट रहेगा इस जमीं पर 
                       जब तक है यहाँ  ……. !!
                       सूरज चाँद सितारा   ……. !!

                           तेरा प्यार भरा यह नेह 
                          अनमोल है हर गहना से  ……. !!
                       तेरी प्यारी सी चाहत 
                       अनमोल है हर सपना से  ……. !!

                       बचपन के हर खट्टी मिठ्ठी 
                       हर यादें जुडी है तुझसे  ……. !!
                       राखी के इक छोर से बंधा है तू 
                       एक छोर बंधी है तेरी बहना   ……. !!

                       नहीं चटक सकता यह धागा 
                       कभी किसी के चटकाने से  ……. !!
                       राखी का प्यार मेरा 
                       जगमग करे हर राह तुम्हारा  ……. !!

                       राह में आये तेरे हर काँटों को 
                       फूल में बदल दें यह धागा  ……. !!
                       तू हमेशा मुस्कराते रहे जीवन में 
                       बस यही दुआ है मागी मैंने  ……. !!
                              


                                                                                Ranjana Verma 










                       
                             

Thursday, 15 August 2013

झंड़ा ........ भारतवासी का प्रथम सलाम है ||

                                                                 

                                                                 




             तीन रंगों से बना हमारा झंड़ा  |
                                            आन बान शान है हमारी ||  

          ये हमारी गौरवशाली इतिहास का  
                                            एक  अनूठा प्रमाण है  || 

          प्राणों से भी प्रियॆ इस ध्वज को 
                                           भारतवासी का  प्रथम सलाम है  ||  

          मरकर भी सीचेंगे लहू से  
                                           फीका न हो कभी इसका रंग  ||  

          देंगे इस पर जान हम अपनी  
                                           सर भी हम कटवाएँगे   ||  
     
          जो भी इसका अपमान करेगा  
                                            उसे मौत की नींद हम सुलायेंगे  || 

          झंडा लेकर खाएं कसम हम  
                                            रक्षा हमेशा इसकी शान का || 
  
          झंडा लेकर चलना है हमें 
                                             फूलों तो क्या काँटों पर भी शान से  || 

          तनिक न डिगे कदम हमारा 
                                           हाथ में जब हो झंडा हमारा  ||  

          हम गिरे उठे मरे जीये 
                                          पर न कभी झुके ये  झंडा  हमारा   ||   



                                                       Ranjana Verma 


Friday, 9 August 2013

तीज के शुभ अवसर पर ..............!!!

                                            
                                            


                                                                                                               
            प्रेम ग्रन्थ के पन्नों में  ............!!!
            अपने हर सांसों में
            इन सांसों के झंकारों  में  ...........!! 
            मेरी हंसी के खनखनाहटों में  ...........!!   
            धडकते धडकनों में   
            तेरे प्रेम में भीगी काया में  ...........!!  
            मेरे दिल के हजारों स्पंदन में  
            पलकों के कजरों में ...........!! 
            बालों के गजरों में  ...........!!
            हाथों की मेहंदी में 
            इन नयनों के सपनो में ...........!!
            ख्वाबों के बेहिसाब में ...........!!
            इंतजार की घडियों में
            झिलमिल होती पलकों में
            लिखी हूँ तेरा नाम ........... !!! 
       
       
     (तीज और ईद के शुभ अवसर पर आप सब को बहुत बहुत मुबारकबाद)
       
                                                                      Ranjana Verma 





Sunday, 4 August 2013

मुठ्ठी भर आसमां ......................

                                                                                                                                                                                         
             
                               मुठ्ठी भर आसमां    ......................
                              अपनी जड़ ज़माने के लिए 
                              पनपने के लिए -----
                              गहराई तक जमने के लिए  
                              किसी बरगद के पेड़ का 
                              सहारा नहीं -------
                              किसी के एहसानों की
                              बैसाखी नहीं  -------
                              किसी के आखों की  
                              दया नहीं------ 
                              किसी के दुखती दिल की 
                              आह नहीं --------
                              किसी की खुशियों की 
                               डाह नहीं -------
                              सिर उठा के जीने के लिए 
                              अपनी अस्तित्व के लिए -----
                              एक मुठ्ठी जमीं 
                              एक अंजुरी पानी 
      ......................और मुठ्ठी भर आसमां ही तो चाहिए 


                                                                                 Ranjana Verma 

Sunday, 28 July 2013

एक गरीब माँ के सपने..............!!!



इस भयानक रात में
मुसलाधार बरसात में
अपने छोटे बच्चे को कलेजे से लगाये वो
इस भयानक बरसात में कहाँ छुपाये वो
रंग -बिरंगे प्लास्टिको से बनी झोपड़ी 
पानी -पानी हो रहा घर बरसात के होने से
घर में एकमात्र खाट के नीचे वह
अपने बच्चे को लेके लेटे वह
सोचती ये बारिस कब रुकेगी
कब वह दिन आयेगा
जब अपना भी आशियाना होगा
जीवन का तब नया सूरज निकलेगा
खाने को अच्छा खाना होगा

चारों ओर झोपड़े के अंदर
पानी ही पानी बना है समुंदर
सिर्फ खाट के नीचे बची थोड़ी सी जमीन
जहाँ सीने से लगाये बच्चे को कोसती नसीब
भूख से बेहाल बच्चा क्रन्दन कर रहा है
बाहर मेघ भी आज गर्जन कर रहा है
बालक के क्रन्दन से माँ की छाती फट रही है
सूखे शरीर में दूध भी तो नहीं उतर रही है

एक माँ के बेबसी के आँसू
और उसके बच्चे के क्रन्दन से
लगता है सिहर उठी है धरती
चित्कार उठा है आकाशमंडल
आकाश से टपक रही है
आँसू की बड़ी -बड़ी बूंदे

आज माँ और मेघ के आंसू से
डूब जाएगी ये धरती
जलमग्न हो जाएगी  दुनिया
एक माँ के आँसू से बड़ा कोई
हथियार नहीं होता
जागो देश के शासको
सपने इनकी भी सजाओ तुम
नहीं तो ये जलजला तुम्हें भी बहा ले जायेगी
बस रहने को मकान और जीने को
रोटी ही तो मांगी है इसने .
..............क्या इतना भी हक़ इस सरजमीं पर इनका नहीं  ???                                                                                                                           

                                                                        Ranjana Verma 





Thursday, 18 July 2013

दहेज़ की बलिबेदी........ या ........ जिन्दगी ............???

                                                                                                                                                         
                                                                 
     
          आयी थी वह दुल्हन बन के
          अपने सारे सपने को ले के 
          मन में उमंग और आँखों में आस लिए
          मन में एक विश्वास लिए  
          सतरंगी सपने लेकर  
          आई वह साजन के घर
          उसके सारे सपने 
          इस तरह टूट के बिखर जायेगें 
          इसका उसे भान न था
         जिस अरमान को लेकर आयी
         उसका कोई सम्मान न था 
         दहेज़ की बलि बेदी पर
         सारे अरमान जल गए
         रंग बिरंगी सपने उसके
         राख राख हो  गए----- 
         राख हुए सपने को लेकर
         दहेज़ की चिता पर---
         उसे जल जाना होगा
         उसे मौत को गले लगाना होगा
         जीने का अब नहीं बहाना होगा  
         .............लेकिन 
        उसने सुनी अपनी----
        अंतरात्मा की आवाज
        नहीं ...नहीं ...मुझे जीना  होगा
        इस जहाँ में मुझे रहना होगा
        अपने सारे सपने को रंग देने होंगे
        फिर से जिंदगी जीने होंगे
        फिर से अपने पंख फ़ैलाने होंगे
        फिर से चिडियां चहकेगी
        फिर से कोयल  कूकेगी
        फिर से बहार छाएंगे
        सावन की बूंदें भी बरसेगी
        मेरे जले इस ह्रदय पटल पर
       टपटप की आवाज से----
       मधुर संगीत मुखरित होगी
       मैं अपने सपने को पूरा करुँगी
       अपने को दहेज़ की बलि बेदी पर
       नहीं अरमान की चिता  जलने दूंगी
       जीना एक चुनौती है
       .............मौत नहीं मैं  .....
       जीवन गले लगाऊंगी
      अपनी राह खुद बनाऊंगी मैं
      फिर से चलके दुनिया को दिखाऊँगी मैं 
      राह में और भी हमसफ़र मिलेंगे
      मिल के नए सपने फिर सजाऊंगी मैं

     


     
                                                                                         Ranjana Verma 


Saturday, 13 July 2013

एक टुकड़ा कागज का .................!!

                                                                                                                                                                       
            एक टुकड़ा कागज का
            और दिल की इतनी सारी बात
            विरह में बीता यह साल
            कैसे पहंचे हमारी बात
            उन तक...........!!
            सावन की इस जुदाई में
            आँखों से निकलकर
            विरह के दो बूंद आंसू
            चुपचाप टपक पड़े
            एक टुकड़ा कागज पर................!!
            बिना जुबां बोले
            बिना लिखे
            दो बूंद आंसू ही बहुत
            विरह के एक एक लम्हें का हिसाब बताने के लिए ....उन्हें .....!!
            क्योकि भावनाएं भाव संवेदनाऐ  दर्द यर्थाथ सब कुछ तो संजोता है
            यह एक टुकड़ा कागज..................!!
           (हर विरहन के दिल की बात बयां करने के लिए दो बूंद आंसू और एक टुकड़ा कागज ही चाहिए बस )


                                                                                                           Ranjana Verma




Wednesday, 10 July 2013

लक्ष्य को पाना है ................!!


     लक्ष्य को पाना है मंजिल तक जाना है
     हर कदम को विश्वास के साथ बढ़ाना है 
     लक्ष्य तय तो दूर नहीं मंजिल
     बस फासलों को लांघना है

    कोई कोशिश कभी भी नाकाम नहीं होती
    पर निशाना हो बार-बार लगातार सभी
    अर्जुन सा निशाना लगाओ तुम
    एकलव्य सा प्रयास साधो तुम
    शब्धभेदी बाण से उसे भेद ही डालो तुम

     कोई भी बाण नहीं होगा बेकार
     अगर सही निशाना साधा तुमने 
     मुश्किल नहीं है कुछ भी जग में
     अगर मन से ठाना तुमने
     पत्थर चूर -चूर हो जाते है 
     मानव ने जब चाहा तोड़ना उसे

    मन को बांधो तन को साधो
    लक्ष्य को साँस -साँस में बसाओ तुम
    बस लक्ष्य लक्ष्य बस लक्ष्य लक्ष्य 
    एक ही ध्यान लगाओ तुम
    अब दूर नहीं मंजिल
    अब दूर नहीं जीत
    बस फासलों को हर हाल में मिटाना है
    लक्ष्य को पाना है 
                                                                                  
                                                       
  (यह कविता मेरी बेटी इंजीनियर आकांक्षा और बेटा इंजीनियर अमृतांश को जो  अपने अगले लक्ष्य को पाने        
    के लिए अध्यनरत है उसे मेरी तरफ से और हर युवा को जो लक्ष्य साधने में लगा है  )
                                                                                              Ranjana Verma
                                  


Friday, 5 July 2013

मेरे देश के सैनिक तुम्हें सलाम .........!!

                                                             
                                                                   
                                                                         
           
                     मेरे देश के सैनिक तुम्हें  सलाम .........!!  
                     मेरे देश के सैनिक तुम्हें नमन ............!! 

                      देश रक्षा के लिए तुमने
                      दिया हँसते हुए अपना प्राण  ...........!!   
 
                      न्योछावर कर अपना जीवन 
                      कफ़न गले लगाया तुमने   ...........!!   

                     दिन रात गोली बारूद से 
                     दिल अपना छलनी करते हो  ...........!!   

                     देश के खातिर घर बार क्या 
                     तुम जान भी अर्पित करते हो ...........!!   

                     देश की बॉर्डर रक्षा में तुम 
                     जान देने से नहीं कतराते हो   ...........!!   

                     अपने खून के कतरा कतरा से 
                     देशभक्ति तुम लिखते हो     ..........!! 
  
                     जीत हमेशा ही तेरी हो
                     दिनरात यही इबादत करती हूँ  ..........!! 

                    मेरी पूजा के दो फूल स्वीकारो
                    जो तेरी राह में चढ़ाने लाई हूँ  ...........!!   
      



                                                            Ranjana verma