Followers

Wednesday, 28 August 2019



                                                   
                                                 



       मैं दीपशिखा सी जलती रहूं
       हे देव !! तेरे चरणों में
       मेरे मन मंदिर के
       एक श्याम तुम्ही हो
       तुम करुणा के सागर हो
       मेरे घनश्याम तुम्ही हो

       न राधा सा प्यार मांगू
       न मीरा सा इकरार
       बस मेरी पूजा हो स्वीकार
      हे देव !! तेरे चरणों में
               ...........      क्रमशः


                                                                      Ranjana verma


Monday, 16 April 2018


 मेरी भावना के स्रोत हैं सूखे
 अक्षर अक्षर  घायल है
 जल रही है मेरी कविता
 निः शब्द पढ़े शब्दों से
 मैं कैसे गढ़ लूं
 एक नयी कविता
 प्रिय मैं कैसे गाऊँ प्रेम कविता

दुःख घनेरी दहका है मन
जल रहा है कोमल तन
मां बहनों की इज्जत खतरे में है
लुटे हुए अस्मत पर 
मैं कैसे ग़ढ लूं
एक नयी कविता
प्रिय मैं कैसे गाऊँ प्रेम कविता

 
    Ranjana verma 

Thursday, 24 August 2017





 
Happy  Teej


  मैं स्त्री तू सहचर मेरा
  तेरे बिना हर राग अधूरा

 मैं नदियां तू बांध है मेरा
 तेरे बिना न ठौर किनारा

 मैं नयन तू आँखों का पानी
 तेरे बिना ना खिले रूप मेरा

 मैं धड़कन तू सांस है  मेरा
 बिना प्राण न जीवन मेरा

 मैं आरती तू दीया है मेरा
 मैं पूजा तू ईश है मेरा





                             Ranjana Verma


Tuesday, 15 August 2017

 

                                                         

शांतिप्रिय यह देश हमारा 
पूर्वजों का है यह धरोहर 
एकता और अखंड़ता यहां 
नफ़रतों में न बर्बाद हो 
भारत माँ के आँगन में 
मजहब की दीवार से
इंसानियत न तार तार हो
मानवता की राह पर इस
युग का भी इतिहास हो !!!
. . . . . . . . . . . . . . . . .

                                  Ranjana Verma


Wednesday, 25 January 2017

हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण !!





 
    हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण !!
    ये तन तुम्हे समर्पण
    टूटे न कभी विश्वास तुझसे
    छुटे न कभी राष्ट्रध्वज हाथ से
    चुके न कभी ये तन तेरी सेवा से
     दे दू जान हँसकर तुम पर
     हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण

     पूजा की थाली में लाई हूं
     तेरे लिए दीप सजा कर
     अपनी प्राणों की बाती जलाकर
     कर रही हर सांस -सांस तुझको अभिनंदन
     हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण !!



                                                                             Ranjana Verma

Monday, 7 November 2016


                                                             




   मैं कर जोडे
   विनती करूँ
   लिए अर्घ्य की धार
   निर्जला जल में खड़ी
   करूँ प्रणाम तुम्हें बारम्बार
   हे सूर्यदेव ! जग के प्राणाधार !!

   दीर्घायु हो संतान
   और झिलमिलाता रहे
   मांग का सिंदूर
   मांग रही आशीर्वाद
   विश्व -शांति का और
  भरा रहे अन्न -धन से घर- द्वार
  करूँ प्रणाम तुम्हें बारम्बार
 हे सूर्यदेव ! जग के प्राणाधार !!

                                                                   Ranjana Verma





Tuesday, 20 September 2016




      स्तब्ध हैं हम !!!
      स्तब्ध है सरकार
      पाकिस्तान की बर्बरता हमने  देखी
      पाकिस्तान की कट्टरता सबने देखी
      प्रेम की भाषा बहुत पढ़ा दी हमने
      लेकिन उसे तो सिर्फ निहत्थों पर  वार  करना आता है
      अब बहुत हो गया
      ...............  अब और कब तक सहेंगे  ????