Followers

Wednesday, 1 February 2017

मां करती हूँ तुम्हें नमन !!


                   
                                                     


          विद्या की देवी
          देना तुम मुझको ज्ञान
           मां करती हूँ तुम्हें नमन !!
          सच्चाई प्रेम प्यार करुणा से
          भर देना मेरा मन
          दुःख दर्द ईर्ष्या द्वेष और प्रपंच का
          कर सकूं मैं अंत
          अपनों से हुई दूरी को रिश्तों में आयी मज़बूरी को
          बांध सकूँ मैं  मिठास के मजबूत बंधन
         भर देना प्रकाश तुम मेरे अंदर  में जिससे मिट
         सके मेरा सब अज्ञान
         ये जमीं हवा पानी सरसों  के फूलों  की खुशबू से
         भीगता हर पल हमारा तन
         गर आये आज कोई गांठ दिल में
         तो खोल सकूं हर राज इस बसंत
         मां करती हूँ तुम्हे नमन !!



                                                                    Ranjana  Verma



Wednesday, 25 January 2017

हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण !!





 
    हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण !!
    ये तन तुम्हे समर्पण
    टूटे न कभी विश्वास तुझसे
    छुटे न कभी राष्ट्रध्वज हाथ से
    चुके न कभी ये तन तेरी सेवा से
     दे दू जान हँसकर तुम पर
     हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण

     पूजा की थाली में लाई हूं
     तेरे लिए दीप सजा कर
     अपनी प्राणों की बाती जलाकर
     कर रही हर सांस -सांस तुझको अभिनंदन
     हे मां !! ये जीवन तुम पर अर्पण !!



                                                                             Ranjana Verma

Sunday, 1 January 2017



Happy New Year......

मेरी तरफ से आप सभी को 
 नया साल मुबारक हो !!!
 स्वास्थ्य दौलत प्रसिद्धि से 
 आपका जीवन भरा हो 
 उमंग उत्साह और खुशियां 
 आपके द्वार खड़ा  हो 
 ईर्ष्या द्वे क्ले 
 आप से दूर पड़ा हो 
 फूल ही फूल आपके राह में बिछें हो 
 चांद तारों से आपके मंजिल सजें हो 
 सफलता के शिखर पर  
 आप सदा ही खड़े हों 
 मेरी तरफ से आप सभी को 
 नया साल मुबारक हो !!!


                                                  Ranjana verma

                                 

Monday, 7 November 2016


                                                             




   मैं कर जोडे
   विनती करूँ
   लिए अर्घ्य की धार
   निर्जला जल में खड़ी
   करूँ प्रणाम तुम्हें बारम्बार
   हे सूर्यदेव ! जग के प्राणाधार !!

   दीर्घायु हो संतान
   और झिलमिलाता रहे
   मांग का सिंदूर
   मांग रही आशीर्वाद
   विश्व -शांति का और
  भरा रहे अन्न -धन से घर- द्वार
  करूँ प्रणाम तुम्हें बारम्बार
 हे सूर्यदेव ! जग के प्राणाधार !!

                                                                   Ranjana Verma





Tuesday, 20 September 2016




      स्तब्ध हैं हम !!!
      स्तब्ध है सरकार
      पाकिस्तान की बर्बरता हमने  देखी
      पाकिस्तान की कट्टरता सबने देखी
      प्रेम की भाषा बहुत पढ़ा दी हमने
      लेकिन उसे तो सिर्फ निहत्थों पर  वार  करना आता है
      अब बहुत हो गया
      ...............  अब और कब तक सहेंगे  ????

     



Thursday, 25 August 2016








   इस कड़वे से जीवन में तुम एक मीठा सा नाम हो
   जिंदगी में बहुत सा पल हो पर हरपल तुम मेरे साथ हो !!
   


                                                                       Ranjana Verma


Thursday, 14 July 2016




गले लगकर सूरज का
खूब रोई निशा रानी
बूँद बूँद पत्ते पर टपके
निशा के जो नयन बरसे......



                                                               Ranjana verma