Followers

Sunday, 9 March 2014

     
                                                                 





     मुझको मिल सके पहचान कोई
      जीने का नया आयाम कोई
       मेरे आस्तिव का हो नाम कोई
        जीना हो मेरे लिए आसान कहीं
         पथरीली डगर पे दे साथ कोई
          हमसफ़र बन कर चले साथ मेरे
           होठों पर मीठी मुस्कान मिले
           दिल में मेरे भी अरमान खिले
           तार तार न हो कहीं जात  मेरी
           दिल पर न हो असंख्य  वार कई
           बंधनों में न जकड़े जंजीर कहीं
            पावों में न बांधे कोई घुँघुरू कभी
            छूना है मुझे यहाँ ऊंचाई कई
            फलकों पे लिखना है इतिहास नई


                                                                            Ranjana  Verma