Followers

Thursday, 28 February 2013

वसंत

   
                                 वसंत 

                           वसंत एक गीत है
                           कह रहा  वसंत  आज
                           मन के हर गांठ खोल दे
                           प्रिये को आज बोल दे

                           दूर कहीं पपहिरे की पुकार
                           पास कहीं कोयल की मीठी गान
                           भौरों के गुंजन से
                           खिल उठा चमन चमन
                           महक रहा है जमीं गगन
                         
                           पीले पीले सरसों के फूल से
                           ओढ़ के वासंती चुनरी से
                           जमीं दुल्हन सी सजी है आज
                           गुलमोहर के मोहक फूल
                           दे रहे हैं वसंत आने का संदेश
                           बसंत ने फिजा में नई
                           प्रेरणा के प्राण फुके हैं
                           
                           नई-नई कोमल कोंपले
                           पौधों में उग आई है
                           नीले गगन में उड़ते पक्षी
                           वसंत के मद में झूम रहे ये पंछी
                           रंग बिरंगी तितलियाँ
                           उन्मुक्त हो उड़ रही है आज
                           होली की स्वागत में
                           चारो ओर उल्लास छाया है
                           वसंत बन गीत  आज होठों पे आया है .
 
                                                                                       Ranjana Verma
                                                                                         27 .02. 20 13