Followers

Saturday, 8 June 2013

गर्मी का आलम ..............

                                    
                      सूर्ज की प्रचंड गर्मी धरा पर 
                      बिखेर रही है तेज किरणें .............

                      किरणें आग बरसा रही 
                      धुआं धुआं है सारा जहाँ ................
                       
                      धरा की इस उष्ण गर्मी से  
                      झुलस रहा है सारा आलम .............

                      प्यासी धरती पानी को तरसे 
                      आसमां से कही घटा न बरसे .......... 

                      चारों ओर बैचनी का आलम 
                      पानी को हम हरदम तरसे .............. 

                      कब आयेगी बूंदें बारिश की 
                      तृप्त करेगी धरती को जल से .......... 

                      जल रही है हरियाली धरती की 
                      बढ़ रही बेताबी जनजीवन की ...........

                           चांदनी की अदम्य शीतलता भी 
                      नहीं दे रही किसी को कहीं सुकुन ........ 

                      कह रही धरती हम सब से 
                      अब और न काटो जंगलों को ............

                      हरियाली इतनी कम है यहाँ 
                      घटा न रुकती जम के यहाँ ...............

                      आज हम सब करे एक वादा यहाँ 
                      रक्षा करेंगे हर पेड़ को अब यहाँ .......... 
                

                                                                                                     
                                                                                                  
                                                                 Ranjana Verma