Followers

Sunday, 4 August 2013

मुठ्ठी भर आसमां ......................

                                                                                                                                                                                         
             
                               मुठ्ठी भर आसमां    ......................
                              अपनी जड़ ज़माने के लिए 
                              पनपने के लिए -----
                              गहराई तक जमने के लिए  
                              किसी बरगद के पेड़ का 
                              सहारा नहीं -------
                              किसी के एहसानों की
                              बैसाखी नहीं  -------
                              किसी के आखों की  
                              दया नहीं------ 
                              किसी के दुखती दिल की 
                              आह नहीं --------
                              किसी की खुशियों की 
                               डाह नहीं -------
                              सिर उठा के जीने के लिए 
                              अपनी अस्तित्व के लिए -----
                              एक मुठ्ठी जमीं 
                              एक अंजुरी पानी 
      ......................और मुठ्ठी भर आसमां ही तो चाहिए 


                                                                                 Ranjana Verma