Followers

Sunday, 3 November 2013

दिए की ये कतारे..........

                                              




      दिए की ये कतारें 
      कहती है तुमसे ये बहारें ......… 
      हो उज्जवल तेरा जीवन
      प्रतिदिन सुचिकर और गौरवशाली ....!! 
      दिए से चमचमाते ये फिजायें
      नयी रोशनी और नयी दिशायें 
      कहती दिए की ये कतारें......…  
      दूर करे हम सब अपने
      मन की अमावस्या…!!
      टिमटिमाती दिए की रोशनी
      अंदर कि नयी शक्ति है हमारे 
      लौ में जलती दिए की कतारें……… 
      कहती है जमीं से नभ तक हो प्रकाश
      देश में चारों ओर जल रहा हो लौ-विश्वास .......!!  
      प्रज्ज्वलित दीप जलते रहे
      जीवन पथ पर हम बढ़ते रहें……… 
      दीया और बाती जलते रहे
      हर जीवन जगमगाते  रहे………!! 
      दिए की झिलमिलाती रोशनी
      हर दिए से निकलती रोशनी
      नये संचार ऊर्जा भर्ती रोशनी
      दे रही मंगलकामना तुम्हें......…
      ज्ञान पुंज और प्रकाश पुंज से
      तेरा मन कमल खिलते रहे
      जीवन में हर पल तेरे
      दिए की रोशनी बिखरते रहे.….…    !!

                                                             Ranjana Verma