Followers

Thursday, 14 November 2013

बिन बारिश के मैं भीग रही थी……

                                                                                                             


      बिन बारिश के मैं भीग रही थी........
      बिन शोले के मैं जल रही थी
      अनजानी दिशाओं में बढ़ रही थी
      मेरी सांसे कुछ बहक रही थी 
      पास कोई खुशबू सी महक रही थी
      मेरा कंगना कुछ खनक रहा था
      मेरी बिंदिया चमक रही थी
      मेरे लब कुछ बोल रहे थे
      मेरी आँखे कुछ खोज रही थी
      मेरा आंचल कोई खींच रहा था
      पीछे पलटी तो तुम खड़े थे ......…!!  

 


                                                Ranjana verma