Followers

Saturday, 13 July 2013

एक टुकड़ा कागज का .................!!

                                                                                                                                                                       
            एक टुकड़ा कागज का
            और दिल की इतनी सारी बात
            विरह में बीता यह साल
            कैसे पहंचे हमारी बात
            उन तक...........!!
            सावन की इस जुदाई में
            आँखों से निकलकर
            विरह के दो बूंद आंसू
            चुपचाप टपक पड़े
            एक टुकड़ा कागज पर................!!
            बिना जुबां बोले
            बिना लिखे
            दो बूंद आंसू ही बहुत
            विरह के एक एक लम्हें का हिसाब बताने के लिए ....उन्हें .....!!
            क्योकि भावनाएं भाव संवेदनाऐ  दर्द यर्थाथ सब कुछ तो संजोता है
            यह एक टुकड़ा कागज..................!!
           (हर विरहन के दिल की बात बयां करने के लिए दो बूंद आंसू और एक टुकड़ा कागज ही चाहिए बस )


                                                                                                           Ranjana Verma