Followers

Thursday, 18 July 2013

दहेज़ की बलिबेदी........ या ........ जिन्दगी ............???

                                                                                                                                                         
                                                                 
     
          आयी थी वह दुल्हन बन के
          अपने सारे सपने को ले के 
          मन में उमंग और आँखों में आस लिए
          मन में एक विश्वास लिए  
          सतरंगी सपने लेकर  
          आई वह साजन के घर
          उसके सारे सपने 
          इस तरह टूट के बिखर जायेगें 
          इसका उसे भान न था
         जिस अरमान को लेकर आयी
         उसका कोई सम्मान न था 
         दहेज़ की बलि बेदी पर
         सारे अरमान जल गए
         रंग बिरंगी सपने उसके
         राख राख हो  गए----- 
         राख हुए सपने को लेकर
         दहेज़ की चिता पर---
         उसे जल जाना होगा
         उसे मौत को गले लगाना होगा
         जीने का अब नहीं बहाना होगा  
         .............लेकिन 
        उसने सुनी अपनी----
        अंतरात्मा की आवाज
        नहीं ...नहीं ...मुझे जीना  होगा
        इस जहाँ में मुझे रहना होगा
        अपने सारे सपने को रंग देने होंगे
        फिर से जिंदगी जीने होंगे
        फिर से अपने पंख फ़ैलाने होंगे
        फिर से चिडियां चहकेगी
        फिर से कोयल  कूकेगी
        फिर से बहार छाएंगे
        सावन की बूंदें भी बरसेगी
        मेरे जले इस ह्रदय पटल पर
       टपटप की आवाज से----
       मधुर संगीत मुखरित होगी
       मैं अपने सपने को पूरा करुँगी
       अपने को दहेज़ की बलि बेदी पर
       नहीं अरमान की चिता  जलने दूंगी
       जीना एक चुनौती है
       .............मौत नहीं मैं  .....
       जीवन गले लगाऊंगी
      अपनी राह खुद बनाऊंगी मैं
      फिर से चलके दुनिया को दिखाऊँगी मैं 
      राह में और भी हमसफ़र मिलेंगे
      मिल के नए सपने फिर सजाऊंगी मैं

     


     
                                                                                         Ranjana Verma