Followers

Wednesday, 10 July 2013

लक्ष्य को पाना है ................!!


     लक्ष्य को पाना है मंजिल तक जाना है
     हर कदम को विश्वास के साथ बढ़ाना है 
     लक्ष्य तय तो दूर नहीं मंजिल
     बस फासलों को लांघना है

    कोई कोशिश कभी भी नाकाम नहीं होती
    पर निशाना हो बार-बार लगातार सभी
    अर्जुन सा निशाना लगाओ तुम
    एकलव्य सा प्रयास साधो तुम
    शब्धभेदी बाण से उसे भेद ही डालो तुम

     कोई भी बाण नहीं होगा बेकार
     अगर सही निशाना साधा तुमने 
     मुश्किल नहीं है कुछ भी जग में
     अगर मन से ठाना तुमने
     पत्थर चूर -चूर हो जाते है 
     मानव ने जब चाहा तोड़ना उसे

    मन को बांधो तन को साधो
    लक्ष्य को साँस -साँस में बसाओ तुम
    बस लक्ष्य लक्ष्य बस लक्ष्य लक्ष्य 
    एक ही ध्यान लगाओ तुम
    अब दूर नहीं मंजिल
    अब दूर नहीं जीत
    बस फासलों को हर हाल में मिटाना है
    लक्ष्य को पाना है 
                                                                                  
                                                       
  (यह कविता मेरी बेटी इंजीनियर आकांक्षा और बेटा इंजीनियर अमृतांश को जो  अपने अगले लक्ष्य को पाने        
    के लिए अध्यनरत है उसे मेरी तरफ से और हर युवा को जो लक्ष्य साधने में लगा है  )
                                                                                              Ranjana Verma