Followers

Thursday, 16 May 2013

कौन थी वो ............. ???


      अनजान शहर  
      सपनों का एक घर
      मैं और मेरे हबी 
      बस दो ही थे तभी
      पराये लोग पराया जगह
      सब अनजान
      भाषा भर्षण
      सब अलग थलग
      क्या बात करूँ
      किससे बात करूँ 
      अपनों को याद कर
      हो जाती थी उदास
      लोग कहते हैं 
      कभी -कभी पराया भी
      कोई अपना हो जाता है
      वो लेडी
      मेरे सरकारी क्वार्टर के
      दुसरे भाग में रहती थी
      वो हर रोज मुझसे मिलती थी
      अपनी टूटी -फूटी हिंदी भाषा में
      मुझसे बात करती थी
      मैं तेलगु नहीं समझ पाती थी
      और वो ठीक से हिंदी
      नहीं बोल पाती थी 
      मुझसे उमर में दोगुनी से
      थोड़ी सी बड़ी थी
      दोनों में खूब बात होने लगी थी 
      उसने मुझे सारे साउथ इंडियन  
      खाना सिखायी थी 
      मैं भी कुछ बिहारी खाना
      उनकी मदद से बनायीं थी  
      मेरे हर परेशानी का हल 
      वो करती थी   
      मेरे तबियत ख़राब होने पर
      मिर्ची आग से मेरी
      नजर उतारती थी 
      वो कहती तुम्हें 
      नजर लगी है 
      जब उनके पति का ट्रान्सफर हुआ 
      वो फूट -फूट कर रोई थी 
      मुझे छोड़कर वो
      नहीं जाना चाहती थी
      क्योकि
      उन्हें मेरी चिंता थी
      कि मैं अकेली हो जाऊँगी   
      मैं भी रोई
      दोनों  खूब रोई
      कैसा रिश्ता था ये
      कौन थी वो
      पता नहीं
      पर किसी जन्म में
      मेरी मां जरुर थी वो........
                                                                रंजना वर्मा