Followers

Thursday, 2 May 2013

तेरे प्यार का रंग............ !!

                                              


                मेरे हाथों में सजी !
             तेरे प्यार की मेहंदी !
             मेरे हाथों में लगी !
             तेरे नाम की मेहंदी !
            
            रच गई लाली इन हाथों में !
            बस गया तू इन आखों में !

            तुम तक़दीर बन के उभरे मेरे हाथों में !
            तुमसे कहता है मेहंदी का ये गाढ़ा रंग !
            संग संग बंध गए अब हम तो सनम !
            जनम जनम साथ अब तो चलेंगे हम !
             
            सबसे गहरा मेहंदी का रंग !
            जिसे लिखा मैनें अपने दिल पर सनम !
            तेरे प्यार के रंग में रंग गई मैं 
            अब तो तेरी हो गई मैं !
            अपनी मेहंदी लगी अंजुरी में 
            समेट चली तेरे प्यार का रंग  !!

                                                                                  रंजना वर्मा