Followers

Tuesday, 30 April 2013

मेरी बिटिया

                                                                   

                 
                       
           
     तुझे बड़े भाग्य से पाया मैंने    
     तुझे बड़े जतन से पाला मैंने 

                          तन मन मेरा महकाया तुमने 
                          जीवन फूल खिलाया तुमने 

    तु मेरी कोमल छाया है 
    मेरा ही रूप पाया तुमने

                            जीवन तुम पर लुटाया मैंने
                            हर झंझावत से बचाया तुम्हें 

    घर आंगन महकाया तुमने 
    इंद्रधनुषी रंग विखराया तूने 

                        हर को स्नेह की डोर में बांधा तुमने 
                        जीवन में हर रंग उतारा तुमने 

   माँ पापा की जान है तू 
   भाई छलकाता हरक्षण प्यार  

                         बड़े विलम्ब से प्राप्त सुंदर हीरे मोती हो
                         अथक परिश्रम से मिले अमृत पुनीत हो

  दुआ है मेरी तू सदा स्वस्थ चिरंजीव रहना
  विहंसते होंठ रहें तेरे तू सदा प्रसन्नचित रहना

                                                                   
                                                             रंजना वर्मा