Followers

Monday, 1 April 2013

मत छुओ इस कली को


                                                                                                             
                                               मत छुओ इस कली को
                                  कल ये खिल के गुलाब होगी
 
                                     महकेगी बगिया में
                                     तुम्हें भी महकाएगी

                                       इनकी खूबसूरती
                                     ईश्वर की इनायत है

                                    ये मासूम है नादान भी
                                    इसकी हर अदा जुदा भी

                                     लाल हरे पीले रंग की
                                    नाजुक इनकी पंखुडियां

                                      हिफाजत तुम इनकी
                                     करना थोड़ी सम्भाल के
                                         
                                  कल फक्र होगा इस कली पे
                       जब दुनिया इसकी खूबसूरती की मिसाल देगी
                                   
                                                                                      रंजना वर्मा