Followers

Monday, 8 April 2013

सात फेरे हम हो गए तेरे !!

              पहली बार जब मैं घर से निकली थी
            इनके साथ 
            हलकी सी यादों की धुंध है
            बात सालों पहले की है
            बिलकुल अल्हड़ लड़की थी मैं
            बिना कुछ बात किये 
            चल दिये साथ में 
            कहीं कोई डर नहीं 
            किसी तरह का भय नहीं     
            बस सात फेरे हम हो गए तेरे      
            के वादे को 
            चरितार्थ करने
            कहीं कोई अविश्वास नहीं था
            पता नहीं क्यों 
            लम्बे सफ़र के बाद 
            मंजिल पहुँचे हम
            पहाड़ों का शहर
            प्रकृति में बसा
            कोटेज सा सरकारी क्वार्टर
            जहाँ पहुंचकर 
            बिलकुल चैन का
            सांस लिया
            जैसे मैंने मंजिल
            पा लिया
            सफ़र के दोरान भी ज्यादा 
            बातें न हुई
            क्या इतना मजबूत बंधन 
            ये सात फेरे
           जो अनजाने के साथ अनजाने 
           शहर में रहने आ गये
           हम सफ़र क्या होता है
           कुछ कुछ समझने लगी थी
           लगता है
           मैं मन ही मन
           इनसे प्यार करने लगी थी

                                                                 रंजना वर्मा