Followers

Wednesday, 17 April 2013

याद तुम्हारी आती है .........

                                                             

                                                                       




           डूबती है जब सूरज की किरणें 
        तब याद तुम्हारी आती है 

                              आती  है जब रात की रानी 
                              तब याद तुम्हारी आती है

        छाती है जब घनघोर घटा
        तब याद तुम्हारी आती है

                                    आता है जब नयनों में सपना
                                     तब याद तुम्हारी आती है

         करती हूँ जब श्रंगार अपना
         तब याद तुम्हारी आती है

                                   याद में तेरे अहसास में तेरे
                                  सपनों में खोए ये नयना

        सतरंगी सपनों को पने 
        दिल में बसाये ये नयना 

                                  सूर्य किरण से भी आगे
                                  जाता है अनूठा प्यार तेरा

        तेरे प्यार की अनूठी छांव में
        खिलता है ये संसार मेरा .........  
                                                                           रंजना वर्मा