Followers

Thursday, 25 April 2013

प्यार पर इतरा रहे होते हो ..........

       तुम कभी भी अपने
      प्यार का इजहार
      नहीं करते हो
      वैसे भी प्यार
      जतलाने की नहीं
       महसूस करने की है
       तुम मौन रहकर
       अपनी भावों  से
       सब कह देते हो
       तुम्हारा प्यार उस
       विशाळ वट वृक्ष
       की तरह है 
       जो दूर दूर तक
       अपनी जड़ को
       फैला कर
       पेड़ को मजबूती
        देता है
        उसी तरह तुम्हारा
        प्यार  भी 
        मुझे अंतर्मन में
        इस  तरह थामा
        कि मैं बाहर की दुनिया में
        बिना डरे बिना गिरे
        झूम सकूँ गा सकूँ
        गुनगुना सकूँ
        अपनी खुशबू
        चारों और फैला सकूँ
        और तुम दूर खड़े
        अपने प्यार पर
        इतरा रहे होते हो ..........
                                                                       रंजना वर्मा