Followers

Sunday, 7 April 2013

कभी तो मिलो मुझसे !

            मुझसे बात करो कुछ दिल से
          प्यार करो कुछ इस तरह से  
          नेह की छांव में कुछ देर रुक कर
          प्रीत में मेरे भीगकर तो देखो
          मिलन की चाह से अलग
          कभी तो मिलो मुझसे !

          मेरी सांसों की खुशबू में
          थोड़ी देर और ठहर जाओ 
          घुल जाएगी सब दूरियां
          थोडी और करीब आकर तो देखो
          मन की चाह से अलग
          कभी तो मिलो मुझसे !

         इन गिरते उठते मेरी पलकों में
         छुपकर स्नेह लगा लो जरा
         आखों में कजरा बन कर
         अपनी  प्यास बुझा कर देखों
         चाहत की रंग से अलग
         कभी तो मिलो मुझसे !

       तुमसे मिलने की बेकरारी हमें  भी
       आकर गले लगा लो  जरा
       मिलने की हसरतें ले कब से  बैठी
       आगोश में कुछ देर छुपा कर तो देखो
       तन की चाह से अलग
       कभी तो मिलो मुझसे !

                                                          रंजना वर्मा