Followers

Saturday, 27 April 2013

......... क्योकिं मैं एक स्त्री हूँ

    
   मैं कांच नहीं जो टूट जाऊँगी 
   मैं लोहा नहीं जो गल जाऊँगी

                          रहती हूँ अपनी ही ख्वाबों में 
                          गढ़ती  हूँ अपनों की दुनिया                                                                                                                   

    नापा न करो मेरी सीमा को  
    परखा न करो मेरी हिम्मत  

                          मैं इस धरा से फलक तक 
                          मैं अन्तरिक्ष तक विस्तार हूँ 

    मैं बाहर से जितनी नाजुक हूँ 
    मैं भीतर से उतनी शख्त हिस्सा हूँ 

                            मैं हर खिलती कली की मुस्कान हूँ 
                            मैं प्रेम प्यार दुआवों का अरमान हूँ

    मैं उगते हुए सूरज का सवेरा  हूँ
    मैं चमकते तारों का उजाला हूँ 

                             मैं प्रकृति के हर चीज में ढली हूँ  
                             मैं ब्रह्मांड के हर वजूद में  हूँ

                                                                                   रंजना वर्मा