Followers

Thursday, 11 April 2013

मुझे सपनो की दुनिया में ले चल .......

                                                                                                                                   
                                                                                                                                       
                                                             
                                                           
                                                                                                                                                 
   मुझे  सपनों की दुनिया में ले चल
   मुझे ख्वाबों की दुनिया में ले चल
   आरजू है यही तेरे हाथ में मेरा हाथ हो
   नीले  गगन के नीचे सदा साथ हो
   कोई ऐसी जगह ले चल .......... 
 
   जहाँ ख्वाबों की दुनिया में छोटा सा आशियाना हो
   जहाँ प्यार की छत और दुआवों का साथ हो
   सांसों की कड़ियों से सजा संसार हो
 
   जहाँ एक दुसरे की धड़कन हम सुनने लगे 
   हमारे कदम यू हीं बहकने लगे
   जहाँ सिर्फ हवाओं से बात हो
   जहाँ सिर्फ तारों का साथ हो 
   मुझे झिलमिल सितारों के पार ले चल
   कोई ऐसी जगह ले चल .............

  जहाँ न हो दुनिया की बंदिशें 
  जहाँ न हो दिल पर पहरा किसी का
  निगाहों ही निगाहों में जहाँ बात हो
  मुझे उस क्षितिज के पार ले चल
  कोई ऐसी जगह ले चल ..............
   
                                                                  रंजना वर्मा